Widgetized Section

Go to Admin » Appearance » Widgets » and move Gabfire Widget: Social into that MastheadOverlay zone

मेरे लिए टर्निंग पॉइंट था धोनी का वह फैसला : रोहित शर्मा

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम धाकड़ बल्लेबाज रोहित शर्मा ने कहा है कि पूर्व कप्तान महेंद्र िंसह धोनी का ५० ओवर के प्रारूप में उनसे पारी शुरू कराने का पैâसला उनके लिए करियर सबसे बड़ा टा\नग पॉइंट था। रोहित ने कहा कि मुझे लगता है कि वनडे में पारी शुरू करने के पैâसले ने मेरा करियर बदल दिया और यह पैâसला महेंद्र िंसह धोनी ने किया था। इसके बाद मैं बेहतर बल्लेबाज बन गया। इससे मुझे अपना खेल बेहतर तरीके से समझने में मदद मिली और मैं ाqस्थति के अनुसार बेहतर प्रतिक्रिया दे पाया। रोहित ने पहली बार २०१३ की शुरूआत में इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू शृंखला के दौरान ओपिंनग बल्लेबाज की भूमिका निभाई।उन्होंने इस सीरीज में ८० के आसपास रन बनाए और फिर चौqम्पयन्स ट्रॉफी में बेहतरीन प्रदर्शन किया।धोनी के पारी की शुरूआत के लिए कहने के संदर्भ में रोहित ने कहा,धोनी मेरे पास आए और कहा कि `मैं चाहता हूं कि तुम पारी की शुरूआत करो क्योंकि मुझे भरोसा है कि तुम अच्छा करोगे। तुम कट और पुल शॉट दोनों अच्छा खेल सकते हो इसलिए तुम्हारे अंदर ओपिंनग बल्लेबाज के रूप में सफल होने का गुण है। `उन्होंने मुझे कहा कि विफलताओं से हम डरे और आलोचनाओं से निराश नहीं हो।वह बड़ी तस्वीर देख रहे थे क्योंकि उस साल इंग्लैंड में चौqम्पयन्स ट्रॉफी होनी थी। रोहित के अनुसार धोनी की खिलाड़ी की क्षमताओं को परखने की क्षमता अदभुत है।
रोहित ने कहा, “इंग्लैंड में चौqम्पयन्स ट्रॉफी ने मेरा भरोसा बढ़ाया कि मैं पारी की शुरूआत कर सकता हूं और मैं सुबह इंग्लैंड के हालात में सपेâद गेंद से खेलने की चुनौती का सामना करने को तैयार था। न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज के दौरान रोहित को जांघ की मांसपेशियों में चोट लगी थी और वह अभी इससे उबर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आप इसे लेकर कुछ नहीं कर सकते और मैंने पहले भी इस तरह की ाqस्थतियों का सामना किया है। मेरे लिए निराशाजनक यह है कि चोट उस समय लगी जब न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट मैचों में लगातार तीन अर्धशतक जड़ने के बाद मैं लय में था।इंग्लैंड के खिलाफ पिचें बल्लेबाजी के लिए अच्छी थी और इन पर खेलने में मजा आता। करूण नायर ने इंग्लैंड के खिलाफ तिहरा शतक जड़ा।करूण के प्रदर्शन से क्या रोहित असुरक्षित महसूस कर रहे हैं, यह पूछने पर उन्होंने कहा, “मैं कभी असुरक्षित महसूस करने वाला व्यक्ति नहीं रहा और इसका कारण यह है कि मुझे पता है कि जीवन में आगे वैâसे बढ़ना है।अगर आप चोटिल नहीं हो तो क्या होता इस बारे में सोचना बेमानी है।तथ्य यह है कि करूण को मौका मिला और वह शानदार खेला और उसकी तारीफ होनी चाहिए।करूण और लोकेश राहुल जब बल्लेबाजी कर रहे थे तो मैंने थोड़ी देर देखा भी था।सीरीज में शानदार प्रदर्शन के लिए अश्विन, शमी और जडेजा को श्रेय जाता है।
जांघ की चोट के ऑपरेशन के बाद रोहित आठ हफ्ते की रिहैबिलिटेशन प्रक्रिया से गुजर चुके हैं।उन्होंने बताया, प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में वापसी की कोई तय तारीख मैं नहीं बता सकता।मुझे बताया गया है कि पूरी तरह से उबरने में १२ से १४ हफ्ते लगेंगे। रोहित ने कहा, “मैंने दौड़ना शुरू कर दिया है और अगले हफ्ते से मैं बल्लेबाजी का अभ्यास शुरू करूंगा। शुरू में सामान्य अभ्यास के बाद गेंदबाजी मशीन के खिलाफ बल्लेबाजी करूंगा और फिर नेट सत्र में हिस्सा लूंगा।” रोहित को कुछ घरेलू मैच खेलने होंगे और विजय हजारे ट्रॉफी का आयोजन अगले महीने के अंत में किया जाएगा। उन्होंने कहा कि “ऑस्ट्रेलिया सीरीज के बारे में मुझे नहीं पता लेकिन मुझे कुछ अभ्यास मैच खेलने होंगे। मुझे मुंबई क्रिकेट संघ से बात करनी होगी कि क्या मैं कुछ क्लब मैच खेल सकता हूं। समस्या यह है कि मैं १० साल से अधिक समय से क्लब क्रिकेट नहीं खेला हूं इसलिए मुझे मौजूदा प्रक्रिया की जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि `मैं मजबूत व्यक्ति हूं लेकिन मेरी पत्नी ऋतिका मुझसे भी ज्यादा मजबूत है। वह मेरी मजबूती है और जब मैं घर आता हूं तो मैं अपने काम से अपना ध्यान हटा सकता हूं और पूरी तरह से अलग चीज पर बात कर सकता हूं।

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *