Widgetized Section

Go to Admin » Appearance » Widgets » and move Gabfire Widget: Social into that MastheadOverlay zone

पार्न बताकर किताब ‘द आदिवासी विल नॉट डान्स’ लगाया प्रतिबंध

दास सरकार की हो रही आलोचना

रांची (ईएमएस)। झारखंड की रघुवर दास सरकार इन दिनों लोगों की आलोचना का शिकार हो रही है। इसके पीछे वजह है साहित्य अकादमी युवा पुरस्कार से सम्मानित लेखक हांसदा सोवेंद्र शेखर की किताब ‘द आदिवासी विल नॉट डांस’ पर प्रतिबंध लगा देना है। सरकार ने इस कहानी संग्रह की प्रतियां जब्त करने का आदेश भी दिया गया है। प्रदेश सरकार ने किताब के लेखक शेखर पर कानूनी कार्रवाई करने का भी आदेश दिया है। सोचने वाली बात यह हैं कि दास सरकार ने इसी विवादित लेखक शेखर को 2015 में अपनी किताब ‘द मिस्टीरियस एलमेंट ऑफ रूपी बास्की’ के लिए सम्मानित किया था। राज्य सरकार ने इस किताब की एक कहानी को ‘अश्लील’ बताते हुए यह फैसला लिया गया है। शेखर पर अंग्रेजी में लिखने, संथाल समुदाय की छवि को नुकसान पहुंचाने और फायदा कमाने के लिए उन्हें बदनाम करने का आरोप है। शेखर के खिलाफ इस कार्रवाई की आलोचना भी हो रही है।

बात दे कि किताब की एक कहानी ‘नवंबर इज द मंथ ऑफ माइग्रेशन्स’ को लेकर विवाद खड़ा हुआ है। यह एक ऐसी महिला की कहानी है जिसे महज 50 रुपयों और कुछ पकौड़ों के लिए जिस्मफरोशी करनी पड़ती है। राज्य सरकार का आरोप हैं कि इस कहानी के द्वारा आदिवासी संस्कृति को बदनाम करने और संथाल महिलाओं को गलत तरीके से पेश करने की कोशिश की जा रही है। शेखर खुद भी संथाल हैं। वह झारखंड की राजधानी रांची के पास ही पाकुर में रहते हैं और पेशे से डॉक्टर हैं।वहीं शेखर के लिए समर्थन के साथ ही इस किताब को लेकर विरोध बढ़ता जा रहा है। उनके खिलाफ माहौल तैयार हो रहा है। उन्हें सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जा रहा है, उनकी आलोचना करते हुए सार्वजनिक पत्र लिखे जा रहे हैं। सोशल मीडिया पर भी उनके खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। शेखर को धमकियां भी दी जा रही हैं और कई जगहों पर उनका पुतला भी जलाया गया। जिन साहित्यिक और सांस्कृतिक कार्यकर्ताओं ने शेखर के खिलाफ अभियान चलाते हुए उन्हें दिया गया अवॉर्ड वापस लिए जाने की मांग की थी, उन्हें इस किताब पर नहीं बल्कि शेखर की लिखी किसी दूसरी किताब पर आपत्ति थी। इस मामले ने अब राजनैतिक रुप भी ले लिया हैं विपक्षी दल झारखंड मुक्ति मोर्चा ने विधानसभा में इस ‘द आदिवासी विल नॉट डांस’ पर प्रतिबंध लगाए जाने की मांग की। शाम होते-होते प्रदेश भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने ‘द आदिवासी विल नॉट डांस’ की सभी प्रतियां जब्त करने का आदेश जारी कर दिया।

दूसरी तरफ आदिवासी मुद्दों पर लिखने वाले कई लेखकों और अकादमिक क्षेत्र से जुड़े लोगों ने शेखर के खिलाफ उठाए गए इन कदमों का विरोध करते हुए एक पत्र भी लिखा है। उन्होंने कहा कि उन्होंने अपने कई संथाल मित्रों को शेखर की लिखी यह ‘अश्लील’ कहानी पढ़ने को दी। पत्र में लिखा गया है, इस कहानी को पढ़कर वे सभी लोग आदिवासी महिलाओं की मुश्किल और उलझी जिंदगी को करीब से समझ सके। यह कहानी महिला के शोषण की है, उसकी परिस्थितियों और जरूरतों के कारण लिए गए फैसलों की है। इसे पढ़ने वाला उन महिलाओं का दर्द महसूस करता है, रोता है।उसे उन महिलाओं के लिए तकलीफ होती है। एक भी पाठक ऐसा नहीं था जिसने यह कहा हो कि यह कहानी पढ़कर उसकी यौन उत्तेजना भड़क उठी।’

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *