Widgetized Section

Go to Admin » Appearance » Widgets » and move Gabfire Widget: Social into that MastheadOverlay zone

45 दिन के लिए पीएम बने शाहिद अब्बासी, फिर आएंगे नवाज के भाई

इस्लामाबाद। नैशनल असेंबली (पाकिस्तानी संसद) में मंगलवार को देश के अंतरिम प्रधानमंत्री के नाम का ऐलान किया गया। इसके बाद पाकिस्तान की सत्तारूढ़ पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के उम्मीदवार शाहिद खाकन अब्बासी को देश का अंतरिम पीएम चुन लिया गया है। अब्बासी के विरोध में 6 उम्मीदवार उतरे थे। अब्बासी को 221 वोट मिले। पूर्व पीएम नवाज शरीफ सरकार में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक संसाधन मंत्रालय संभाल रहे अब्बासी अगले कुछ दिनों तक देश की सत्ता संभालेंगे। नवाज शरीफ की अध्यक्षता में हुई पार्टी की बैठक में अब्बासी को पीएम पद के उम्मीदवार के लिए चुना गया था। शाहिद अब्बासी 45 दिनों तक पाकिस्तान के अंतरिम प्रधानमंत्री का पदभार संभालेंगे। इस बीच में पंजाब के मुख्यमंत्री और नवाज के छोटे भाई शहबाज शरीफ चुनाव लड़कर नैशनल असेंबली में अपनी जगह बनाएंगे और फिर वह अब्बासी की जगह पीएम की कुर्सी संभालेंगे। गौरतलब है कि पनामागेट मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद नवाज शरीफ ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। पांच सदस्यों की खंडपीठ ने नवाज को पीएम पद और पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के पार्टी प्रमुख का पद छोडऩे का निर्देश दिया था। नवाज के खिलाफ अब एनएबी में आगे की जांच होगी। पाकिस्तान में अगला आम चुनाव 2018 में होना है।
राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने सदन के नए नेता का चुनाव करने के लिए मंगलवार को नेशनल असेंबली (पार्लियामेंट के निचले सदन) की बैठक बुलाई थी। इसमें पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) ने अब्बासी को इंटरिम पीएम पद का कैंडिडेट बनाया था। अब्बासी ने सोमवार को नेशनल असेंबली के सेक्रेटरी जावेद रफीक मलिक को अपना नामंाकन पेपर सौंपा था।

ऐसे हुआ मतदान
अब्बासी को सदन के कुल 342 वोट में से 221 मिले। वहीं, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के कैंडिडेट न कमर सिर्फ 47 वोट मिले। वहीं पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के शेख राशिद अहमत को 33 वोट मिले। जमात-ए-इस्लाम के साहिबजादा तारिकुल्लाह को सिर्फ 4 वोट मिले। नए पीएम के तौर पर एलान के बाद अब्बासी ने सदन में पीएम की कुर्सी पर बैठे और सदन को संबोधित किया। नवाज शरीफ के इस्तीफे के बाद उनकी अगुआई में हुई पार्टी की बैठक में अब्बासी को इंटरिम पीएम पद का कैंडिडेट चुना गया था। अब अब्बासी पीएम चुने जाने के बाद 45 दिनों तक पाक के इंटरिम पीएम का पद संभालेंगे। चुनाव से पहले मीडिया से बातचीत में अब्बासी ने कहा था कि वह अपने टेन्योर में नवाज शरीफ की पॉलिसीज को आगे बढ़ाएंगे।

45 दिनों बाद बदलेगी राजनीति
इन 45 दिनों के दौरान ही नवाज शरीफ के भाई और पाकिस्तान के पंजाब प्रोविंस के सीएम शाहबाज शरीफ नेशनल असेंबली का चुनाव लड़ेंगे और जीतने के बाद वह अब्बासी की जगह पीएम की कुर्सी संभालेंगे।

भ्रष्टाचार के मामले में घिरे हैं अब्बासी
शाहिद खाकान अब्बासी भी करप्शन के एक मामले में मुख्य आरोपी हैं। यह मामला 220 अरब के गैस (रुहृत्र) घोटाले का है। पाकिस्तान का नेशनल अकाउंटिबिलिटी ब्यूरो (एनएबी) इस मामले की जांच कर रहा है। एनबीए ने इस मामले में 29 जुलाई 2015 को केस दर्ज किया था। हालांकि जांच अभी शुरुआती दौर में है। पाकिस्तान के पंजाब प्रोविंस के मशहूर टूरिस्ट स्पॉट मरी से आने वाले अब्बासी के पिता खाकान अब्बासी जियाउल हक के करीबी सहयोगियों में थे। 1988 में अपने पिता की रावलपिंडी में एक हादसे में मौत के बाद शाहिद खाकान अब्बासी राजनीति में दाखिल हुए। ये 6 बार नेशनल असेंबली के लिए चुनाव जीत चुके हैं। सिर्फ 2002 के चुनाव में इन्हें हार का सामना करना पड़ा था। नवाज शरीफ के दूसरे टेन्योर में अब्बासी नेशनल एयरलाइंस कंपनी पीआईए के अध्यक्ष बने और 12 अक्टूबर 1999 के तख्तापलट के मौके पर आर्मी चीफ जनरल परवेज मुशर्रफ के विमान अपहरण करने की कोशिश के जुर्म में शरीफ के साथ गिरफ्तार हुए थे। शरीफ मुशर्रफ के साथ एक समझौते के बाद परिवार के साथ सऊदी ।

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *