Widgetized Section

Go to Admin » Appearance » Widgets » and move Gabfire Widget: Social into that MastheadOverlay zone

जानिये नई सुज़ुकी स्विफ्ट की पांच बड़ी खासियतों के बारे में…

लंबे अरसे तक कार बाज़ार में राज़ करने वाली मारूति सुज़ुकी स्विफ्ट का नया अवतार जापान में लॉन्च हो चुका है। उम्मीद है कि नया अवतार, स्विफ्ट की शानदार सफलता को एक बार फिर दोहराएगा। नई स्विफ्ट भारत में भी लॉन्च होनी है। इसे 2017 के मध्य तक यहां उतारा जा सकता है।

तो कितनी बदली है नई स्विफ्ट और क्या बड़ी खासियतें समाई हैं इस में, जानेंगे यहां….

1. कार का डिजायन

तीसरी जनरेशन की नई स्विफ्ट काफी आकर्षक है। इसके बेसिक बॉडी डिजायन को पहले जैसा ही रखा गया है। मिनी कूपर से प्रेरित डिजायन का स्विफ्ट की सफलता में अहम योगदान रहा है। हालांकि यहां नए बदलाव भी देखने को मिलेंगे कई अपडेट हुए हैं। आगे की तरफ हनीकॉम्ब डिजायन वाली पहले से ज्यादा चौड़ी हैक्सागोनल ग्रिल दी गई है, यह बॉडी से बाहर निकली हुई महसूस होती है। स्वेप्ट-बैक हैडलैंप्स के साथ एलईडी प्रोजेक्टर और सुज़ुकी इग्निस से मिलती-जुलती एलईडी डे-टाइम रनिंग लाइट दी गई है। पीछे की तरफ ध्यान दें तो यहां नए एलईडी टेललैंप्स दिए गए हैं।

नई स्विफ्ट के फेंडर्स पहले से ज्यादा खूबसूरत हैं। इन में बलेनो की तरह फ्लूडिक लाइन दी गई हैं। नई स्विफ्ट में फ्लोटिंग रूफ दी गई है। सी पिलर के डिजायन में थोड़ा बदलाव किया गया है और पीछे वाले दरवाजे के हैंडल को विंडो के पास रखा गया है, इस वजह से यह टू-डोर कार वाला अहसास देती है। इसमें 16 इंच के अलॉय व्हील लगे हैं। संभावना है कि भारत आने वाली नई स्विफ्ट में मौजूदा 15 इंच वाले व्हील ही मिलेंगे।

2. पूरी तरह से नया केबिन

नई स्विफ्ट का केबिन पूरी तरह से नया है। कंपनी के अनुसार इसे ड्राइवर को फोकस करते हुए डिजायन किया गया है। सेंटर कंसोल पहले से पांच डिग्री नीचे की ओऱ झुका हुआ है। नया फ्लैट-बॉटम (डी-टायप) स्टीयरिंग व्हील, ट्विन-पॉड इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर और बलेनो वाली 4.2 इंच की मल्टी इंफॉर्मेशन डिस्प्ले भी इस में दी गई है।

नई स्विफ्ट की सीटें भी नई हैं। साइड से इनकी कुशनिंग को और बढ़ाया गया है। ये पहले से ज्यादा आरामदायक हैं। इसका बूट स्पेस 265 लीटर का है, पछली सीटों को फोल्ड करके बूट स्पेस 579 लीटर तक बढ़ाया जा सकता है। मौजूदा स्विफ्ट का बूट स्पेस 204 लीटर का है।

3. ज्यादा मजबूत और कम वजनी प्लेटफार्म

2017 स्विफ्ट सुज़ुकी के नए ‘हियरटेक्ट’ प्लेटफार्म पर बनी है। कंपनी के मुताबिक यह मौजूदा मॉडल से ज्यादा मजबूत और कम वजनी है। यह प्लेटफॉर्म बलेनो के प्लेटफार्म से मिलता-जुलता है, कंपनी ने इसे ‘सुज़ुकी नेक्स्ट 100’ प्लान के तहत तैयार किया है, इसे फ्रैंकफ्रट मोटर शो-2015 में दिखाया गया था। इसी प्लेटफार्म पर सुज़ुकी की इग्निस भी बनी है। नई स्विफ्ट का वजन भी 800 से 1000 किलोग्राम के बीच रहेगा।

4. हाइब्रिड फीचर वाले इंजन

जापान में नई स्विफ्ट की बिक्री 04 जनवरी 2017 से शुरू होगी। जापान में यह 1.2 लीटर ड्यूलजेट और 1.0 लीटर बूस्टरजेट, दो पेट्रोल इंजनों में मिलेगी। पहले वाले इंजन के साथ सुज़ुकी की माइल्ड-हाइब्रिड टेक्नोलॉजी (एसएचवीएस) का इस्तेमाल हुआ है। भारत में यह टेक्नोलॉजी सियाज और अर्टिगा के डीज़ल वेरिएंट में इस्तेमाल की गई है। जापान में नई स्विफ्ट में 5-स्पीड मैनुअल, सीवीटी और 6-स्पीड एटी ट्रांसमिशन का विकल्प दिया गया है। सीवीटी और 5-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन केवल 1.2 लीटर इंजन के साथ मिलेगा, जबकि 6-स्पीड एटी गियरबॉक्स खासतौर पर बूस्टरजेट इंजन के लिए बना है।

भारत में नई स्विफ्ट को मौजूदा इंजनों के साथ ही उतारा जा सकता है। अटकलें हैं कि भारत में नई स्विफ्ट को बलेनो आरएस वाला 1.0 लीटर का बूस्टरजेट इंजन भी मिल सकता है, जो 5-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन से लैस होगा। अटकलें हैं कि नई स्विफ्ट में ऑटोमैटेड मैनुअल ट्रांसमिशन की सुविधा भी मिल सकती है।

5. फीचर लिस्ट

नई स्विफ्ट में कई एडवांस टेक्नोलॉजी वाले फीचर देखने को मिलेंगे। इस में डीवीडी/सीडी, यूएसबी, ब्लूटूथ और ऑक्स  कनेक्टिविटी वाला एडवांस इंफोटेंमेंट सिस्टम लगा है, जो एपल कारप्ले और एंड्रॉयड ऑटो भी सपोर्ट करता है।

आगे, पीछे और ओआरवीएम पर कैमरा लगा है, जिन के आउटपुट इंफोटेंमेंट स्क्रीन में मिलते हैं। भारत में मल्टी कैमरा फीचर आने की संभावना कम ही है। इसका नेविगेशन फीचर एसडी कार्ड (मैमोरी कार्ड) में स्टोर मैप्स को भी पढ़ सकता है। मौजूदा वर्जन की तरह इस में इलेक्ट्रिक एडजस्टेबल/फोल्डेबल ओआरवीएम, इंजन पुश बटन स्टार्ट-स्टॉप और ऑटो क्लाइमेट कंट्रोल जैसे कई फीचर दिए गए हैं।

अब चर्चा करते हैं सेफ्टी की… भारत में नई स्विफ्ट में ड्यूल फ्रंट एयरबैग और एबीएस के साथ ईबीडी फीचर स्टैंडर्ड मिलेगा। कार सुरक्षा को लेकर बनाए जा रहे नए नियमों के तहत इस में चाइल्ड सीट के लिए आईएसओफिक्स और रियर पार्किंग सेंसर भी स्टैंडर्ड मिलेंगे।

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *