Widgetized Section

Go to Admin » Appearance » Widgets » and move Gabfire Widget: Social into that MastheadOverlay zone

आईएसआई समर्थित आतंकी हमले की आशंका पर सेना अलर्ट

०पीओके से ३० आतंकियों की साजिश की तैयारी
जम्मू। जम्मू कश्मीर में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी और सेना की मदद से आतंकी गतिविधियों की आशंका के मद्देनजर बीएसएफ ने अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे हलकों में सुरक्षा बंदोबस्त कड़े कर दिए हैं। बीएसएफ ने शीतकालीन रणनीति के तहत कोहरारोधी उपकरण लगाने के साथ ही अधिक जवानों की तैनाती की है जिससे घुसपैठ और आतंकवादी हमलों को नाकाम किया जा सके। बीएसएफ ने कहा कि जमात उद दावा प्रमुख हाफिज सईद सीमा से सटे क्षेत्र में ाqस्थत आतंकवादी शिविरों का दौरा कर रहा है। वह आतंकियों को भारत में हमले करने के लिए लगातार भड़का रहा है। इसमें पाकिस्तानी सुरक्षा बलों की मिलीभगत है।
भारतीय खुफिया एजेंसियों से प्राप्त सूचना के अनुसार पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई ने जम्मू कश्मीर में हमलों को अंजाम देने के मकसद से पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में कम से कम ३० आतंकवादियों को एकजुट किया है। इसमें लश्कर-ए-तैयबा, हिज्बुल मुजाहिदीन और जैश-ए-मोहम्मद जैसे दहशतगर्द संगठनों के सदस्य शामिल हैं। इन आतंकवादियों को आईएसआई के मार्गदर्शन में पेशावर से लाया गया। इन्हें नियंत्रण रेखा के पार पीओके क्षेत्र में एक लांिंचग पैड में रखा गया है। इन आतंकियों संगठनों की कश्मीर घाटी में एक महीने में हमले की योजना पर बैठक हुई जो आईएसआई के सरगना शौकत खान उर्पâ अबु सुलेमान की निगरानी में संपन्न हुई। सीमा सुरक्षा बल ने दावा किया है कि सीमापार से होने वाली गोलीबारी में १०० फीसदी बढ़ोतरी हुई है। बीएसएफ महानिरीक्षक (जम्मू सीमांत क्षेत्र) राकेश शर्मा ने कहा, पहले सीमा पर साल में एक या दो बार गोलीबारी होती थी। लेकिन पूर्ववर्ती वर्षो की तुलना में २०१४ से २०१५ तक संघर्षविराम उल्लंघनों में १०० प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *